भुलाए नहीं भूलेगा यह दिन

कमरे में चौकी पर बैठे थे नागार्जुन. पीठ के पीछे खुली खिड़की से जाड़े की गुनगुनी धूप आ रही थी. बाहर गौरैया चहचहा रही थी. तभी पहुंचे कॉ. विनोद मिश्र, कवि से मिलने कवि के पास. समय ठिठका-सा रहा, शब्द चूक-से गए. नागार्जुन ने वीएम के चेहरे को कांपती उंगलियों से टटोला. देर तक नाक, कान, ठुड्डी को छूते रहे। उनकी भाव विह्वल आंखें चमक से भर गईं.

Read More

रोजगार मांगे इंडिया आन्दोलन : बेरोजगार युवाओं ने आरा में विरोध मार्च निकाला

रोजगार मांगे इंडिया आन्दोलन के तहत 29 जून को सैकडों बेरोजगार युवाओं ने महाराजा कॉलेज से जैन कॉलेज फिर वहां से आरा रेलवे स्टेशन तक मार्च किया. मार्च के दौरान छात्रों और युवाओं ने मोदी सरकार के 4 सालों के दौरान बढ़ती बेरोजगारी के खिकाफ जमकर आक्रोशपूर्ण नारेबाजी की.

Read More