सी पी आई (एम एल ) लिबरेशन ने 2 अप्रैल की दलित स्ट्राइक का पुरजोर समर्थन किया

  • 349
    Shares

पश्चिमी बंगाल और दूसरे स्थानों पर अल्पसंख्यकों पर हिंसा की घटनाओं की कड़ी निंदा की

मानसा, पंजाब।  सी पी आई (एम एल) लिबरेशन के मानसा में जारी राष्ट्रीय महाधिवेशन में देश भर में कल आर एस एस द्वारा राम नवमी के त्यौहार के मौके को अल्पसंख्यकों के खिलाफ नफरत और हिंसा फ़ैलाने की साजिश के लिए इस्तेमाल किये जाने की कड़ी निंदा की गई. भाकपा माले ने मोदी सरकार द्वारा एस सी/एस टी एक्ट को कमजोर करने के लिए लाए जा रहे संशोधनों  को दलित विरोधी बताया और इसके प्रतिवाद में दलित संगठनों द्वारा आयोजित 2 अप्रैल की देश व्यापी हड़ताल का समर्थन किया.

भाकपा माले ने कहा कि पश्चिमी बंगाल और देश के कई अन्य राज्यों में राम नवमी के जुलूस में आर एस एस के उपद्रवियों ने घुस कर उनकी आड़ में एक अल्पसंख्यक मजदूर की हत्या, मौलाना आजाद की प्रतिमाओं को तोडा. पार्टी ने कहा है की यह अल्पसंख्यकों को आतंकित करने एवं हिन्दू बहुलता को भ्रमित करने की साजिश है. जनता को इसका कड़ा विरोध करना चाहिए और अपने त्योहारों को राजनितिक साजिशों का अड्डा बनने से बचाना होगा.

आज के सदन की कार्यवाई प्रेस से साझा करते हुए अईसा नेता  कामरेड सुचेता डे ने कहा कि मौजूदा सरकार साजिशपूर्ण तरीके से नयी पीढ़ी को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से मरहूम करने में लगी हुई है. इसके लिए फंड कट, सीट कट से लेकर आरक्षण को कमजोर करने जैसे तरीकों के इस्तेमाल किये जा रहे हैं. कैम्पसों में से विचारों एवं अभिव्यक्ति की आजादी, महिला सुरक्षा आदि जैसे लोकतांत्रिक मूल्यों को पूरी तरह  नदारद किया जा रहा है.

उत्तर प्रदेश से आए पार्टी के वरिष्ठ नेता कामरेड मुहम्मद सलीम ने कहा कि कल राम नवमी के धार्मिक जुलूसों की आड़ में संघ के  कार्यकर्ताओं ने पुरुल्लिया, औरंगाबाद समेत देश के कई भागों में जो हत्या एवं गुंडागर्दी की, उसे केंद्र सरकार का समर्थन हासिल है और उसके लिए राज्य सरकारों को भी बरी नहीं किया जा सकता. हर देशवासी को इन साजिशों को बेअसर करने के लिए आगे आना होगा. उन्होंने कहा कि संघ के इस साजिशपूर्ण नेटवर्क और झूट लूट और फसाद की फैक्ट्री चला रहा है और सारी जनता को इससे खबरदार रहना होगा. भाजपा जनता को घरेलू युद्ध जैसे हालात में धकेल कर आने वाले चुनावों में सत्ता हासिल करने की फिराक में है.

इसी के साथ पार्टी ने मोदी सरकार द्वारा एस सी/एस टी एक्ट को कमजोर करने के लिए लाए जा रहे संशोधनों का सख्त नोटिस लिया और उन्हें दलित विरोधी बताया. इस के प्रतिवाद के बतौर देश भर के दलित संगठनों द्वारा आने वाली 2 अप्रैल को देश व्यापी हड़ताल का भी समर्थन किया है. प्रवक्ताओं ने कहा कि पार्टी इस हमले को चुप चाप नहीं सहेगी. जन गोलबंदी करके इसका जवाब दिया जायेगा

Related posts

Leave a Comment