जामताड़ा गांव में पुलिस उत्पात के खिलाफ ग्रामीणों ने डुमरी थाना घेरा

  • 7
    Shares

डुमरी( गिरीडीह). डुमरी पुलिस ने  बुधवार की देर रात्रि जामताड़ा गांव में घुसकर वृद्ध और महिलाओं डंडे बरसाए. पुलिस कुछ युवकों को गिरफ्तारी करने के नाम पर आई थी. ग्रामीणों का आरोप है की पुलिसकर्मी नशे में धुत थे और उन्होंने उनके घरों में तोड़फोड़ की. पुलिस की पिटाई से आधा दर्जन लोगों को गंभीर चोटें आयीं हैं. इस घटना के विरोध में गुरुवार को भाकपा माले के नेतृत्व में गांव के सैकड़ों लोगों ने डुमरी थाने का घेराव किया.

पुलिस की पिटाई से अम्रत महतो,भवानी साव, पार्वती देवी, धनेश्वरी देवी आदि को चोटें आयीं हैं. इन लोगों ने डुमरी थाने में दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए तहरीर भी दी है.

थाने के घेराव व प्रदर्शन का नेतृत्व  भाकपा माले के प्रखंड सचिव नागेश्वर महतो, पूरण कुमार महतो, जामताड़ा मुखिया प्रतिनिधि खेमलाल महतो, शिव शंकर भगत , अखिल कुमार, सुरेश महतो आदि ने किया. इस मौके पर इंकलाबी नौजवान सभा के के राष्ट्रीय परिषद सदस्य संदीप जायसवाल ने कहा कि नशे में धुत होकर डुमरी पुलिस द्वारा देर रात जामताड़ा गांव के महिलाओं और वृद्ध के साथ मारपीट व दुर्व्यवहार को ग्रामीण कभी बर्दाश्त नही करेंगे. मारपीट के दोषी पुलिसकर्मियो पर बिना देरी किये कार्यवाई किया जाय अन्यथा 15 दिन के बाद बड़े आंदोलन की दिशा में हम आगे बढ़ेंगे.

उन्होंने कहा कि एक तरफ पुलिस आम जनता से दोस्ताना व्यवहार रखने का दंभ भरती है दूसरी तरफ महिलाओं के सीने पर बंदूक तानती है और वृद्ध जनो की पिटाई करती है. भाजपा राज में पुलिस बेलगाम हो गयी है.
माले प्रखंड सचिव नागेश्वर महतो ने कहा कि डुमरी पुलिस के इस रवैये के लिए स्थानीय विधायक-सांसद भी जिम्मेवार है.

थाने के घेराव के दौरान डुमरी थाना प्रभारी व पुलिस निरीक्षक ने आश्वस्त किया की जांच के बाद दोषी पुलिस कर्मियों पर करवाई होगी। इसके बाद पीड़ित  धनेश्वरी देवी,पार्वती देवी,अमृत महतो,भवानी साव ने डुमरी थाना में लिखित प्रतिवेदन देकर दोषी पुलिस कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की।

घेराव कार्यक्रम में महेंद्र महतो, मनोहर महतो, प्रमिला देवी, अमृत महतो,पार्वती देवी,धनेश्वरी देवी,भवानी साव, जागेश्वर महतो समेत सैकड़ो महिला पुरुष शामिल थे।

Related posts

Leave a Comment